Saturday, November 14, 2009

कविता-संग्रह : अनमोल संचयन, संपादन- रश्मि प्रभा

इसका विमोचन 31 जनवरी 2010 को विश्व पुस्तक मेला में हिन्द-युग्म के कार्यक्रम में प्रसिद्ध कवि बालस्वरूप राही ने किया

भावनाओं की आँच से तपे, निखरे शब्दों ने मुझे हमेशा अपने पास बुलाया. मैंने उन शब्दों से कभी घरौंदा बनाया, कभी फूलों की क्यारी, कभी कागज़ की नाव, कभी कलकल करती नदी ........यही मेरा खेल, मेरा सुकून रहा.शब्दों की तिलस्मी दुनिया से गुजरना, उसमें से कुछ अनकहे को ढूंढ़ना और सुनना मेरी दिनचर्या का सशक्त पल बना.

जाने-अनजाने शब्दों के रिश्ते बनते गए, मीठे पानी के स्रोत की तरह मेरी प्यास बुझाते गए.....फिर अचानक, एक दिन यह ख्याल आया कि इन्हें संजो लूँ और शब्द प्रेमियों की हथेली भर दूँ, आँखें प्रोज्ज्वलित कर दूँ, भावनाओं के तार जोड़ दूँ ......

कविता में एक जादू होता है....क्यों होता है,किसी को नहीं पता ! पर होता है...लिखता कोई है,पर वही भावना जाने कितनों का सुकून बन जाती है . कोई लिख लेता है, कोई बस सोचता है - एक कवि की कलम कईयों की जुबान बन जाती है.....इन्हीं सुकून के हिस्सों को मैं एक जगह लेकर आई हूँ . अलग - अलग जज़्बात , अलग - अलग एहसास !

संचयन मेरा ख्वाब था, मेरा प्रयास बना.........पर इस संचयन में इसमें संचित हर कवियों का उस प्रयास की सफलता में बराबर का योगदान रहा. सूरत की प्रीती मेहता ने अपनी कलम के बोल तो शामिल किये ही , मुख्य आवरण में काव्य सदृश गंभीर रंग भरे हैं.
मुझे विश्वास है कि हमारा यह सम्मिलित प्रयास आपके एकांत का मित्र बनेगा.

सादर
रश्मि प्रभा
(संकलन व संपादन)

मुद्रित मूल्य- रु 200
हिन्द-युग्म के पाठकों के लिए- रु 160

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

25 पुस्तकप्रेमियों का कहना है कि :

Nirmla Kapila का कहना है कि -

बहुत बहुत बधाईयाँ

शोभना चौरे का कहना है कि -

badhaiya aur abhar

M.L.Sharma का कहना है कि -

bahut bahut badhai.Hindi kavita ke vikash me aapka yogdan vishmarniy rahega.

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' का कहना है कि -

Rashmi ji
Sadar abhiwadan evam shubh kamanaayen

वाणी गीत का कहना है कि -

पुस्तक की भूमिका ने ही विभोर कर दिया है ...
बहुत बहुत बहुत बधाई ....!!

sangeeta का कहना है कि -

रश्मि जी ,
आपका प्रयास सराहनीय है. बहुत बहुत बधाई

shama का कहना है कि -

Anek shubhkamnayen....aur shukrguzaaree...

http://shamasnasmaran.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

Kirti Vardhan का कहना है कि -

anmol sanchyan ka swagat hai.aapko bahut bahut badhai.

dr a kirtivardhan
9911323732
a.kirtivardhan@gmail.com
kirtivardhan.blogspot.com

Kirti Vardhan का कहना है कि -

bachchon ke liye meri pustak "subah sawere" ko mangane ke liye mujhe e mail karen

a.kirtivardhan@gmail.com
9911323732

Kirti Vardhan का कहना है कि -

anmol sanchyan ka swagat hai.aapko bahut bahut badhai.

dr a kirtivardhan
9911323732
a.kirtivardhan@gmail.com
kirtivardhan.blogspot.com

दिगम्बर नासवा का कहना है कि -

aapne jis tarah se bhomika baandhi hai ..... is pustak ke prati lagaav utna hi badh gaya hai ..... pratiksha hai ki kab naseeb hogi padhne ke liye ..

Manjushree का कहना है कि -

sadhe shabdo me sadhi bhumika.khubsurat hai.

kishor kumar khorendra का कहना है कि -

जाने-अनजाने शब्दों के रिश्ते बनते गए, मीठे पानी के स्रोत की तरह मेरी प्यास बुझाते गए.....फिर अचानक, एक दिन यह ख्याल आया कि इन्हें संजो लूँ और शब्द प्रेमियों की हथेली भर दूँ, आँखें प्रोज्ज्वलित कर दूँ, भावनाओं के तार जोड़ दूँ ......


पुस्तक कीभूमिका ही इतनी अच्छी है
तो किताब तो बहुत शानदार होगी ही
रश्मिजी आपको बधाई
शुभ कामना
किशोर ...रायपुर छत्तीसगढ़
१५-११-09

Mukesh Kumar Sinha का कहना है कि -

Pustak ke awaran se hi lag raha hai, dhamal machega, jab pustak bajar main aayegee!!

bahut bahut badhai..........iss sanakaln ke pure team ko!!

Rashmi "Di" ..........dekha na tum bahut aage jaogi!!

anita agarwal का कहना है कि -

अगर आगाज़ इतना शानदार है तो अंजाम क्या होगा ? ये मुझे अभी से नज़र आ रहा है. बहुत सुंदर भूमिका लिखी है ... कितनी बैचनी से इंतज़ार कर रही हूँ अंजाम देखने का ......

रमा द्विवेदी का कहना है कि -

डा.रमा द्विवेदी....

रश्मी जी,
पुस्तक की भूमिका दिल की गहराईयों तक उतर गई ....बहुत सशक्त अभिव्यक्ति है..भाषा पर आपका जबरदस्त अधिकार है। निश्चित ही पुस्तक बहुत प्रभावशाली होगी ...साहित्य सेवा के लिए आपको ढेर सारी बधाईंयाँ एवं शुभकामनाएँ।

Jyotsna Pandey का कहना है कि -

रश्मि दी! आपके स्नेहिल करों के तले एक सुखद अहसास को जी रही हूँ, पुस्तक के सफल प्रकाशन के लिए हार्दिक शुभकामनाये.........

niv का कहना है कि -

shubh kamnay

Mamta Sharma का कहना है कि -

badhaiyan evam anant shubh kamnayein

Sumita का कहना है कि -

bahut-bahut badhaai or shubhkaamna.

Prem Chand Sahajwala का कहना है कि -

रश्मि प्रभा जी को हार्दिक शुभकामनाएं. मुझे इस संग्रह की बेताबी से प्रतीक्षा रहेगी.

अनामिका की सदाये...... का कहना है कि -

mujhe is programme me aaker bahut khushi hui..rashmi ji sangeeta ji k sath sath aur bade bade kaviyo se mil kar bahut acchha laga. hind yugm k sabhi sathiyo,rashmi ji, shailesh ji aur pramod k tiwari ji k prayas bahut acchhe rahe. aage bhi intzar rahega is tareh ki get-together ka. aap sab se milna jindgi ka ek yaad gar pehlu ban kar hamare dilo me basa rahega.
abhaar.

sangeeta swarup का कहना है कि -

rashmi ji,

bahut bahut badhai , aur shubhkamnayen....

aapka prayaas ni:sandeh prashansneey hai.

Gaurav Mishra का कहना है कि -

How can I buy this book Online?
Please let me know as I want to buy this book.

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://truelevitrahere.com/#sgqgl]levitra online without prescription[/url] - levitra without prescription , http://truelevitrahere.com/#ptxhj levitra 20 mg

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)